संवाद टूटते तारे से

सांझ जब ढलने लगी, सिरहाने पर रात ने दस्तक दी, आसमान के नीचे, तारों की चादर ओढ़े, मैं पाँव पसारे … More